SOCIAL MEDIA: कमल हासन के हिंदू आतंकवाद वाले बयान पर बोले लोग- कमल हासन की जीभ काट देनी चाहिए

New Delhi: Laksbha election के दौरान Kamal Hasan ने एक नया विवाद खड़ा कर दिया है। Kamal Hasan ने अपने बयान में कहा कि- आजाद भारत का पहला उग्रवादी हिन्दू था। वह Mahatma Gandhi की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे की बात कर रहे थे। Kamal Hasan के इस बयान पर सोशल मीडिया पर तरह-तरह की प्रतिक्रिया सामने आ रही है। एक मंत्री ने तो कमल हासन की जीभ तक काटने की बात कह डाली। 

तमिलनाडु सरकार के मंत्री के टी राजेंद्र बालाजी ने कहा कि हिंदू आतंकवादी वाले बयान के लिए कमल हासन की जीभ काट देनी चाहिए। कमल हासन से ऐसा बयान अल्पसंख्यको वोट हासिल करने के लिए दिया है। हम किसी एक के लिए पूरी जाति पर आरोप नहीं लगा सकते है।

Sushan Sinha ने लिखा कि-  कमल हासन जैसे लोग ज़बरदस्ती हिन्दू आतंकवाद स्थापित करने के चक्कर में मुसलमानों का नुकसान कर रहे हैं। हिन्दू आतंकवाद तो स्थापित हो पाएगा या नहीं ये तो पता नहीं पर इनके चक्कर में नफरत जरूर बढ़ेगी और फिर हर आतंकी का धर्म स्कैन होने लगेगा। फिर क्या होगा खुद सोच लीजिए।

एक्टर विवेक ओबेरॉय ने लिखा कि-  DEAR कमल सर, आप एक महान कलाकार हैं। जिस तरह कला का कोई धर्म नहीं होता, वैसे ही आतंक का भी कोई धर्म नहीं होता!  आप कह सकते हैं कि गोडसे आतंकवादी था लेकिन आपने हिंदू शब्द का इस्तेमाल क्यों किया? इसलिए कि आप मुस्लिम बहुल इलाके में वोट हासिल करने की कोशिश कर रहे थे? उन्होंने कहा कि कृपया सर इस देश को बांटे नहीं, हम सभी एक हैं जय हिंद…अखंड भारत, अविभाजित भारत।

Gaurav C Sawant कहते हैं कि-  26/1 आतंक का कोई धर्म नहीं होता। 9/11 आतंक का कोई धर्म नहीं होता। श्री लंका चर्च हमला: आतंक का कोई धर्म नहीं है। नेता कमल हसन (वोट मांगने वाले अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्र में): स्वतंत्र भारत में पहला आतंकवादी HINDU था (अब आतंक का कोई धर्म नहीं है?)

MAjor Surendra Poonia ने कहा कि- आतंकवाद का कोई धर्म नहीं है, लेकिन कमल हसन कहते हैं-भारत का पहला आतंकवादी हिंदू था। कमल हासन  हमें उन लोगों का धर्म बताते हैं जो, कश्मीरी पंडितों को मार डाला, मुंबई धमाकों को अंजाम दिया, 84 में सिखों को मार डाला
आपकी तरह संसद पर हमला और शहरी नक्सली। हिंदू धर्म को क्यों तोड़ रहे हैं?

Vino K jose लिखते हैं कि इतिहास में सिर्फ तथ्य है। गोडसे हिंदू महासभा का सदस्य था और एमके गांधी की गोली मारकर हत्या करने के तुरंत बाद संगठन पर प्रतिबंध लगा दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *